Aadhunik Sahitya : Mulaya Aur Mulyankan

-16%

Aadhunik Sahitya : Mulaya Aur Mulyankan

Aadhunik Sahitya : Mulaya Aur Mulyankan

395.00 330.00

In stock

395.00 330.00

Author: Nirmala Jain

Availability: 5 in stock

Pages: 144

Year: 2021

Binding: Hardbound

ISBN: 9788126708338

Language: Hindi

Publisher: Rajkamal Prakashan

Description

आधुनिक साहित्य : मूल्य और मूल्याकंन

रचना और आलोचना की सतत् विकासमान प्रक्रिया युग-सापेक्ष सही मूल्यों का निर्धारण करती है तथा उन सार्थक प्रतिमानों का निर्माण करती चलती है जो साहित्य के मूल्यांकन को दिशा और गति देते हैं। इस दृष्टि से देखें तो डॉ. निर्मला जैन की यह पुस्तक अपना विशेष महत्त्व रखती है। इसमें ‘मूल्य’ और ‘मूल्यांकन’ के ही बिन्दुओं पर आधुनिक साहित्य की रचनात्मकता और आलोचनात्मकता के प्रश्नों को बारीकी और संजीदगी से उठाया गया है।

‘आधुनिक साहित्य : मूल्य और मूल्याकंन’ आलोचनात्मक निबन्धों का एक सुनियोजित उपयोगी संकलन है। समय-समय पर लिखे गए अपने इन निबन्धों में डॉ. जैन ने बहुत ही धारदार शैली में साहित्य की प्रमुख प्रवृत्तियों और समस्याओं का वैचारिक विश्लेषण किया है। अनेक ऐसे मुद्‌दों को उन्होंने यहाँ नए आयाम दिए हैं जो बहसों के दौरान आए दिन बार-बार सामने आते रहे हैं। साथ ही, कविता और कथा के क्षेत्रों में अब तक की विशिष्ट उपलब्धियों को भी उन्होंने नए कोणों से देखा-परखा और रेखांकित किया है। संक्षेप में, यह पुस्तक रचना और आलोचना की सही पहचान कराने में सक्षम है।

Additional information

Authors

Binding

Hardbound

ISBN

9788126708338

Language

Hindi

Pages

144

Publishing Year

2021

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Aadhunik Sahitya : Mulaya Aur Mulyankan”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!