Chhattisgarh Ka Lok Puran : Manomay Ganvo Ka Bahuroop

-10%

Chhattisgarh Ka Lok Puran : Manomay Ganvo Ka Bahuroop

Chhattisgarh Ka Lok Puran : Manomay Ganvo Ka Bahuroop

210.00 190.00

In stock

210.00 190.00

Author: Rahul Kumar Singh

Availability: 10 in stock

Pages: 129

Year: 2023

Binding: Paperback

ISBN: 9789354917929

Language: Hindi

Publisher: National Book Trust

Description

छत्तीसगढ़ का लोक-पुराण : मनोमय गाँवों का बहुरूप

प्रस्तुत पुस्तक में लेखक द्वारा छत्तीसगढ़ की भाषा के इतिहास, परंपरा और वहाँ के गाँवों के नामकरण के पीछे का क्या इतिहास रहा है, के बारे में चर्चा की गई है। उक्त पांडुलिपि विषयवस्तु की दृष्टि से छत्तीसगढ़ की भाषा, बोली और उसमें आए परिवर्तन पर केंद्रित एक लघु अनुसंधान है।

‘‘यह किताब लगता है लंबे समय की, दौड़-धूप की खोज है। कौतुक शिल्प हल्के से कहा गया भारी कथन है। मेरा जानने का चश्मा, देखने के चश्में की तरह बदलता रहता है, छत्तीसगढ़ को मैंने इस तरह भी देखा, मेरा चश्मा है यह किताब। नामों की इस खोज खबर में जगह-जगह इकट्ठे नामों को मैंने सूची की तरह नहीं, सोचता हुआ एक-एक नामों को कर पढ़ा।’’

– विनोद कुमार शुक्ल

अनुक्रम

आमुख

भाग -1

  • गाँव दुलारू
  • अक्षर छत्तीसगढ़
  • छत्तीसगढ़ी

भाग – 2

  • स्थान-नाम
  • पोंड़ी
  • बलौदा और डीह
  • गेदुर और अचानकमार

भाग – 3

  • सोन सपूत
  • तालाब
  • टाँगीनाथ
  • देवारी मंत्र
  • देवता-धामी
  • ग्राम-देवता

भाग – 4

  • मौन रतनपुर
  • राजधानी रतनपुर
  • लहुरी काशी रतनपुर
  • मल्हार
  • गढ़ धनोरा
  • गिरोद
  • कुनकुरी गिरजाघर
  • बिलासा

भाग – 5

  • त्रिमूर्ति से त्रिपुरी-1939
  • अखबर खान
  • रेरा चिरइ
  • गिधवा में बलही

भाग-6

  • बस्तरिया रामकथा
  • मितान-मितानिन
  • छेरछेरा
  • छत्तीसगढ़ी दानलीला

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

Language

Hindi

Publishing Year

2023

Pages

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Chhattisgarh Ka Lok Puran : Manomay Ganvo Ka Bahuroop”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!