Mam Aranya

-25%

Mam Aranya

Mam Aranya

300.00 225.00

In stock

300.00 225.00

Author: Sudhakar Adeeb

Availability: 5 in stock

Pages: 356

Year: 2012

Binding: Paperback

ISBN: 9788180319518

Language: Hindi

Publisher: Lokbharti Prakashan

Description

मम अरण्य

वीरवर लक्ष्मण अपने चारों ओर विस्तीर्ण एवं अभ्यन्तर में घुमड़ते-गूँजते अरण्य से जूझते चौदह वर्ष देश निकाला पाए अपने अग्रज श्रीराम के साथ विचरते रहे। रामकथा तो इस धरती के कण-कण और पत्ते-पत्ते पर लिखी गई तथा बहुश्रुत है। परन्तु त्यागमूर्ति लक्ष्मण अधिकतर मौन-से चित्रित किए गए हैं। कुछेक स्थलों पर जब वह अपने सम्पूर्ण तेज के साथ मुखर होते हैं, तो उन्हें उनके मर्यादाप्रिय अग्रज श्रीराम शान्त करा देते हैं। ऐसा अनेक रामायणों में होता आया है।

विचारणीय यह है कि क्या सौमित्र-लक्ष्मण सम्पूर्ण रामकथा में सदैव मौन ही रहे होंगे? क्या उनका अपना कोई स्वतंत्र व्यक्तित्व नहीं रहा होगा? इतना तेजस्वी, इतना कर्मठ और शौर्यवान् योद्धा भला क्या इतना चुपचाप रह सकता है? फिर रामानुज लक्ष्मण का स्वयं का चिन्तन क्या रहा होगा? ये प्रश्न वर्षों तक मेरे मन में आकार लेते रहे। समाधान इस ‘मम अरण्य’ के रूप में उपस्थित हुआ है।…

Additional information

Authors

Binding

Paperback

Language

Hindi

ISBN

Pages

Publishing Year

2012

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Mam Aranya”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!