Muktibodh Samagra : Vols. 1-8

-15%

Muktibodh Samagra : Vols. 1-8

blank

Muktibodh Samagra : Vols. 1-8

4,000.00 3,400.00

In stock

4,000.00 3,400.00

Author: Gajanan Madhav Muktibodh

Availability: 5 in stock

Pages: 3652

Year: 2019

Binding: Paperback

ISBN: 9789388183864

Language: Hindi

Publisher: Rajkamal Prakashan

Description

मुक्तिबोध समग्र भाग-1-8

मुक्तिबोध की कविताओं के बारे में यदि शमशेर बहादुर सिंह के शब्दों में कहें तो उनकी ‘कविता, अद्भुत संकेतों-भरी, जिज्ञासाओं से अस्थिर—कभी दूर से ही शोर मचाती, कभी कानों में चुपचाप राज़ की बातें कहती चलती है। हमारी बातें हमीं को सुनाती है और हम अपने को एकदम चकित होकर देखते हैं, और पहले से और भी अधिक पहचानने लगते हैं और मुक्तिबोध समग्र के रूप में, ‘हमारी बातें हमीं को’ सुनानेवाली उनकी कविताओं का यह पहला खंड है।

इसमें 1935 से लेकर 1956-57 तक की कविताएँ हैं जिनमें प्रारम्भिक काव्य-प्रयासों से लगाकर आधुनिक हिन्दी-कविता में अपना अलग, निजी मुहावरा हासिल कर लेने तक मुक्तिबोध के काव्य-व्यक्तित्व के विकास के सभी चरण एक साथ मौजूद हैं। साथ ही परवर्ती लेखन में अनुभव और सृजन सम्बन्धी जिन उलझनों, अन्तद्र्वन्द्वों और उनकी अभिव्यक्ति का सशक्त और अनोखा रूप सामने आया, उसकी शुरुआत भी प्रारम्भिक रचनाओं तथा तार सप्तककालीन कविताओं में साफ देखी जा सकती है। इस दृष्टि से यह खंड मुक्तिबोध-काव्य के प्रेमी पाठकों के लिए निस्सन्देह एक नया अनुभव होगा।

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

9789388183864

Language

Hindi

Pages

3652

Publishing Year

2019

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Muktibodh Samagra : Vols. 1-8”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!