Shikayat Mujhe Bhee Hai

-25%

Shikayat Mujhe Bhee Hai

Shikayat Mujhe Bhee Hai

199.00 149.00

In stock

199.00 149.00

Author: Harishankar Parsai

Availability: 5 in stock

Pages: 128

Year: 2018

Binding: Paperback

ISBN: 9788126708604

Language: Hindi

Publisher: Rajkamal Prakashan

Description

शिकायत मुझे भी है

‘शिकायत मुझे भी है’ में हरिशंकर परसाई के लगभग दो दर्जन निबन्ध संगृहीत हैं और इनमें से हर निबन्ध आज की वास्तविकता के किसी न किसी पक्ष पर चुटीला व्यंग्य करता है। परसाई के लेखन की यह विशेषता है कि वे केवल विनोद या परिहास के लिए नहीं लिखते। उनका सारा लेखन सोद्देश्य है और सभी रचनाओं के पीछे एक साफ-सुलझी हुई वैज्ञानिक जीवन-दृष्टि है, जो समाज में फैले हुए भ्रष्टाचार, ढोंग, अवसरवादिता, अन्धविश्वास, साम्प्रदायिकता आदि कुप्रवृत्तियों पर तेज रोशनी डालने के लिए हर समय सतर्क रहती है।

कहने का ढंग चाहे जितना हल्का-फुल्का हो, किन्तु हर निबन्ध आज की जटिल परिस्थितियों को समझने के लिए एक अन्तर्दृष्टि प्रदान करता है। इसलिए जो आज की सच्चाई को जानने में रुचि रखते हैं, उनके लिए यह पुस्तक संग्रहणीय है।

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

Pages

Publishing Year

2018

Pulisher

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Shikayat Mujhe Bhee Hai”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!