Band Gali Ka Aakhiri Makan

-11%

Band Gali Ka Aakhiri Makan

Band Gali Ka Aakhiri Makan

140.00 125.00

In stock

140.00 125.00

Author: Dharamveer Bharti

Availability: 5 in stock

Pages: 116

Year: 2015

Binding: Hardbound

ISBN: 9788126340194

Language: Hindi

Publisher: Bhartiya Jnanpith

Description

बन्द गली का आखिरी मकान

यह भी बहुत दिलचस्प ढंग है। वर्षों तक साहित्य में कहानी, नयी कहानी, साठोत्तरी कहानी, अकहानी आदि आदि को लेकर बहस चलती रहे। लिखनेवाला चुप रहे। वर्षों तक चुप रहे और फिर चुपके से एक कहानी लिखकर प्रकाशित करा दे, और वही उसका घोषणा-पत्र हो, गोया उसने सारे वाद-विवाद के बीच एक रचनात्मक कीर्तिमान स्थापित कर दिया हो, कि देखो यह है कहानी!’’

‘बन्द गली का आखिरी मकान’ प्रकाशित होने पर जो तमाम पत्र लेखक को मिले उनमें से एक पत्र का यह अंश भारती की कथा-यात्रा की दिलचस्प झलक पेश करता है। भारती ने वर्षों के अंतराल पर इस संकलन की कहानियाँ लिखीं लेकिन हर कहानी अपनी जगह पर मुकम्मिल एक ‘क्लासिक’ बनती गयी। ये कहानियाँ आप केवल पढक़र पूरी नहीं करते, ये कहानियाँ कहीं बहुत गहरे पैठकर आपकी जीवन-दृष्टि को पूरी और गहरी बना जाती हैं। इनमें कुछ ऐसा है जो आप पढक़र ही जान पाएँगे। प्रस्तुत है इस कृति का नवीन संस्करण।

Additional information

Authors

Binding

Hardbound

ISBN

9788126340194

Language

Hindi

Publishing Year

2015

Pages

116

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Band Gali Ka Aakhiri Makan”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!