Kamayani

-11%

Kamayani

Kamayani

45.00 40.00

In stock

45.00 40.00

Author: Jaishankar Prasad

Availability: 5 in stock

Pages: 114

Year: 2008

Binding: Paperback

ISBN: 9789390625239

Language: Hindi

Publisher: Lokbharti Prakashan

Description

कामायनी

प्रसाद जी ने प्राचीन भारतीय ग्रन्थों से कामायनी-कथा की प्रेरणा प्राप्त की और भारतीय दर्शन के योग से उसका निरूपण किया। उपनिषदों का अद्वैत, शैव-दर्शन की समरसता, आनन्द, बौद्धों की करुणा—सभी की छाया के दर्शन इसमें होते हैं। चिन्तन-मनन अथवा यों कहें कि दार्शनिकता और काव्य का अद् भुत सामंजस्य ‘कामायनी’ में देखने को मिलता है। ‘कामायनी’ का मनु अपने कठिन संघर्ष के बाद जीवन में समरसता स्थापित कर आनन्द प्राप्त कर लेता है। यह श्रद्धाजन्य आनन्द ही ‘कामायनी’ का लक्ष्य है। देश, काल और जाति की सीमाओं से ऊपर उठकर, मानव और मानवता की विषय-वस्तु के साथ कामायनी नए युग का गौरवशाली महाकाव्य बन गया है।

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

9789390625239

Language

Hindi

Pages

114

Publishing Year

2008

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Kamayani”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!