Chittakobara

-15%

Chittakobara

Chittakobara

199.00 169.00

In stock

199.00 169.00

Author: Mridula Garg

Availability: 3 in stock

Pages: 176

Year: 2013

Binding: Paperback

ISBN: 9788126724062

Language: Hindi

Publisher: Rajkamal Prakashan

Description

चित्तकोबरा
चित्तकोबरा जो लिखा है, उसे उपन्यास कहते मुझे संकोच हो रहा है। जिस तरह यह लिखा गया, याद करके हँसी आती है। एक कहानी थी जो मेरे अन्तर्मन में फैलती-सिकुड़ती रहती थी। फिर एक दिन उस कहानी के अन्तराल का एक-एक क्षण अपनी कड़ी से टूटकर बिखर गया। मैंने आँखें फैलाकर देखा तो दीखा, हर क्षण अलग से फैल रहा है और पूरी एक कहानी का आभास दे रहा है। यह सच है कि मैंने उन अलग-अलग क्षणों को लिखने की प्रक्रिया में अलग-अलग जिया है…आखिर मैं थक गई। लिखे हुए पन्नों को एक जगह इकट्ठा किया और यह बात मेरे लिए सुखद आश्चर्य का विषय है कि पूरी पुस्तक में एक अन्तर्धारा बहती हुई दीखती है और एकसूत्रता भी आसानी से पकड़ में आती है।

इस उपन्यास में परिच्छेद नहीं हैं। मैं जानती हूँ, जीवन की इतनी प्रवहमान धारा को टुकड़ों में नहीं काटा जा सकता। अन्दर के दबाव के कारण ही शायद यह हो सका है कि क्षणों में जी और लिखी गई इस कहानी के टुकड़ों का क्रम भी बाद में तय हुआ। दरअसल, बहती नदी से किसी किनारे खड़े होकर पानी पियो क्या फर्क पड़ता है। क्रम-निर्धारण का पूर्वग्रह तो कहानी गढ़ने में होता है; जो कहानी है, वह तो…कोई कहीं से भी साथ हो ले…

– प्रक्रिया से

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

9788126724062

Pages

176

Publishing Year

2013

Pulisher

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Chittakobara”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!