Aadi-Anadi (3 Vols.)

Sale

Aadi-Anadi (3 Vols.)

Aadi-Anadi (3 Vols.)

1,500.00 1,499.00

In stock

1,500.00 1,499.00

Author: Chitra Mudgal

Availability: 4 in stock

Pages: 816

Year: 2018

Binding: Hardbound

ISBN: 9788171381258

Language: Hindi

Publisher: Samayik Prakashan

Description

आदि-अनादि

(चित्रा मुद्गल की संपूर्ण कहानियां-तीन खंडों में)

कहानी-लेखन चित्रा मुद्गल के अनवरत जीवन-संघर्ष का एक जरूरी हिस्सा है। 1965 में प्रारंभ हुई उनकी कथायात्रा क्रमशः इस अंदाज में परवान चढ़ी कि आज हिंदी कहानी का इतिहास बगैर उनके जिक्र के पूरा हो पाना संभव नहीं है।

‘आदि-अनादि’ में चित्राजी की 1965 से 2007 तक की उपलब्ध सभी कहानियां संग्रहीत हैं। ‘सफेद सेनारा’ से उनकी नव्यतम कहानी ‘हथियार’ तक की कहानियां बयालीस वर्षों के सामाजिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक और आर्थिक संघर्ष का जीवंत प्रमाण हैं।

तीन खंडों में प्रस्तुत इस महत्त्वपूर्ण आयोजन में कथाकार चित्रा मुद्गल के क्रमिक विकास की झलक तो मिलेगी ही, उनकी विशिष्ट अभिव्यंजना की विशिष्ट भाषिक सामर्थ्य, अनूठी कथा शैली तथा बेजोड़ शिल्प के दर्शन भी होंगे।

अपने समय की प्रायः सभी महत्त्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित और प्रशंसित ये कहानियां मुंबई से दिल्‍ली तक के लेखिका के वृहद रचनाकर्म और भारत के संघर्षशील जन से उनके लगाव का प्रमाण तो हैं ही, साथ ही उन शोधार्थियों के लिए भी एक बड़ी सहूलियत के रूप में प्रस्तुत हैं जो अब तक अलग-अलग पुस्तकालयों और संग्रहों की शरण में जाने पर मजबूर थे।

कहना जरूरी है कि ‘आदि-अनादि’ उन पाठकों और पुस्तकालयों के लिए एक अनिवार्य प्रस्तुति है जो स्वातंत्रयोत्तर भारत, उसके विकास तथा जनमानस को कहानी के माध्यम से समझना चाहतें हैं।

आदि-अनादि-1

अनुक्रम

  • दशरथ का वनवास
  • दुलहिन
  • ट्रेन छूटने तक
  • सफेद सेनारा
  • केंचुल
  • त्रिशंकु
  • पाली का आदमी
  • बावजूद इसके
  • मामला आगे बढ़ेगा अभी
  • रूना आ रही है
  • अपनी वापसी
  • अनुबंध
  • शून्य
  • पेशा
  • लाक्षागृह
  • शिनाख्त हो गई है
  • अग्निरेखा

आदि-अनादि-2

  • वाइफ स्वैपी
  • लिफाफा
  • बंद
  • इस हमाम में
  • मोरचे पर
  • गर्दी
  • भूख
  • चेहरे
  • ताशहमल
  • लेन
  • जगदंबा बाबू गांव आ रहे हैं
  • दरमियान
  • फातिमाबाई कोठे पर ही नहीं रहती
  • जरिया
  • ऐंटीक पीस
  • ब्लेड
  • सौदा
  • हस्तक्षेप
  • मुआवजा
  • प्रमोशन
  • जब तक बिमलाएं हैं

आदि-अनादि-3

  • अभी भी
  • लकड़बग्घा
  • जिनावर
  • स्टेपनी
  • बेईमान
  • एक काली, एक सफेद
  • प्रेतयोनि
  • बाघ
  • नतीजा
  • सुख
  • अढ़ाई गज की ओढ़नी
  • लपटें
  • नीले चौखानेवाला कंबल
  • बलि
  • गेंद
  • पाठ
  • अवांतर कथा
  • तकिया
  • जंगल
  • गिल्टी रेजेज
  • हथियार

Additional information

Authors

Binding

Hardbound

ISBN

Language

Hindi

Pages

Publishing Year

2018

Pulisher

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Aadi-Anadi (3 Vols.)”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!