Kavita Ke Naye Pratiman

-3%

Kavita Ke Naye Pratiman

Kavita Ke Naye Pratiman

195.00 190.00

In stock

195.00 190.00

Author: Namvar Singh

Availability: 5 in stock

Pages: 252

Year: 2021

Binding: Paperback

ISBN: 9788126714629

Language: Hindi

Publisher: Rajkamal Prakashan

Description

कविता के नए प्रतिमान
कविता के नए प्रतिमान में समकालीन हिंदी आलोचना के अंतर्गत व्याप्तमूल्यांध वातावरण का विश्लेषण करते हुए उन काव्य मूल्यों को रेखांकित करने का प्रयास किया गया है जो आज की स्थिति के लिए प्रासंगिक हैं।

प्रथम खंड के अंतर्गत विशेषतः ‘तारसप्तक’, ‘कामायनी’, ‘उर्वशी’ आदि कृतियों और सामान्यतः छायावादोत्तर कविता की उपलब्धियों को लेकर पिछले दो दशकों में जो विवाद हुए हैं उनमें टकरानेवाले मूल्यों की पड़ताल की गई है; और इस प्रसंग में नए दावे के साथ प्रस्तुत ‘रस सिद्धांत’ की प्रसंगानुकूलता पर भी विचार किया गया है।

दूसरे खंड में ‘कविता के नए प्रतिमान’ के नाम पर प्रस्तुत अनुभूति की ‘प्रामाणिकता’, ‘ईमानदारी’, ‘जटिलता’, ‘द्वंद्व’, ‘तनाव’, ‘विसंगति’, ‘विडंबना’, ‘सर्जनात्मक भाषा’, ‘बिंबात्मकता’, ‘सपाटबयानी’, ‘फैंटेसी’, ‘नाटकीयता’ आदि आलोचनात्मक पदों की सार्थकता का परीक्षण किया गया है। इस प्रक्रिया में यथा प्रसंग कुछ कविताओं की संक्षिप्त अर्थमीमांसा भी की गई है, जिनसे लेखक द्वारा समर्थित काव्य-मूल्यों की प्रतीति होती है।

निष्कर्ष स्वरूप नए प्रतिमान एक जगह सूत्रबद्ध नहीं हैं, क्योंकि लेखक इस प्रकार के रूढ़ि-निर्माण को अनुपयोगी ही नहीं बल्कि घातक समझता है। मुख्य बलकाव्यार्थ ग्रहण की उस प्रक्रिया पर है जो अनुभव के खुलेपन के बावजूद सही अर्थमीमांसा के द्वारा मूल्यबोध के विकास में सहायक होती है।

Additional information

Authors

Binding

Paperback

ISBN

Pages

Publishing Year

2021

Pulisher

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.


Be the first to review “Kavita Ke Naye Pratiman”

You've just added this product to the cart:

error: Content is protected !!